Current Affairs February 28, 2018

Current-Affairs-February-28-2018

Current Affairs February 28, 2018 को सभी अखबारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और बिजनेस स्टैंडर्ड का अध्ययन कर तैयार किया गया है। यह जानकारी पाठक को UPSC, SSC, Banking, Railway और अन्य सभी प्रतियोगिता परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होगी।

एकीकृत इंटरनेट सूचकांक-2018

एकीकृत इंटरनेट सूचकांक से तात्पर्य इंटरनेट की गुणवत्ता और उपयोग से है। इस संबंध में Facebook और Economist Intelligence Unit ने एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की।

इस रिपोर्ट के अनुसार भारत को 86 देशों की सूची में 47 वा स्थान प्रदान किया गया, जबकि एशिया के 23 देशों की सूची में 12 स्थान प्रदान किया गया।

रिपोर्ट के अनुसार भारत अपेक्षाकृत मजबूत बुनियादी ढांचे के बावजूद कमजोर गुणवत्ता के इंटरनेट सुविधा उपलब्ध करा रहा है।

वर्ष 2018 के सूचकांक में विश्व की 91% आबादी और 86 देशों के विस्तृत डाटा सेट को कवर किया गया है।

यह रिपोर्ट प्रमुखतया चार श्रेणियों (उपलब्धता, सामर्थ्य, प्रासंगिकता और तत्परता) में इंटरनेट समावेश का मूल्यांकन करती है। इस रिपोर्ट के अनुसार अफ्रीकी देशों में इंटरनेट सेवा में सर्वाधिक प्रगति अनुभव की गई।

Source: NDTV


राष्ट्रीय संग्रहालय में पवित्र कुरान की 13 अनदेखी प्रतियों का प्रदर्शन

राष्ट्रीय संग्रहालय, संस्कृति मंत्रालय के अधीन एक प्रतिष्ठित सांस्कृतिक संगठन है, जिसने 7 वी सदी से लेकर 19 वीं सदी तक विभिन्न युगों में लिखी “पवित्र कुरान” के संग्रह का प्रदर्शन किया।

यह प्रदर्शनी 27 फरवरी से 31 मार्च तक प्रदर्शित की जाएगी।

यह प्रदर्शनी शिलालेखों और लिपियों की विभिन्न शैलियों के उदय और प्रसार को बताती है। इसमें कुफिक, नासक, रईहन, थुलथ और बिहार जैसे बड़े सुलेखों में पवित्र कुरान को प्रदर्शित किया गया है।

बिहारी लिपि दुनिया के लिए एक भारतीय योगदान है। इसकी शैलीगत उपस्थिति के कारण, इस कुरान के इतिहास में एक दुर्लभ स्थिति है।

Source: PIB


केंद्रीय गोबर- धन योजना

केंद्र वित्त मंत्रालय के बजट भाषण-2018 के अनुसार केंद्र सरकार गैल्वेवनिंग ऑर्गेनिक बायो-एग्रो रिसोर्सेज धन (गोबर-धन) योजना को लागू करने जा रही है। यह योजना उपयोगी खाद, बायोगैस और जैव-सीएनजी को खेतों में पशुओं के गोबर और ठोस कचरे के प्रबंधन और परिवर्तित करने पर केंद्रित है। यह गांव को साफ रखने में भी मदद करेगा, साथ ही मवेशी पशुओं के माध्यम से किसानों की आय में भी बढ़ोतरी होगी।

वर्तमान समय में भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विश्व का सबसे ज्यादा पशु (300 मिलियन संख्या) आबादी स्थल है, जहां प्रतिदिन 3 मिलियन टन गोबर उत्पादन होता है। यह योजना गांव को स्वच्छ रखने के अलावा कृषि की पैदावार में बढ़ोतरी कर आय के अन्य स्रोत सृजित करने में सहायक होगी।

इस योजना के माध्यम से तेल कंपनियों के लिए बाजार में स्थिर इंधन आपूर्ति सुगम होगी, जबकि बैंकों के और केंद्रीय योजनाओं के माध्यम से किसानों को सुलभ ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक ग्राम पंचायत में स्व सहायता समूह का गठन किया जाएगा, जो संबंधित ग्रामीण क्षेत्र में आवश्यक हरित रोजगार और उर्जा के अवसर का मूल्यांकन करेगा।

Source: Indian Express

Leave a Comment

Your email address will not be published.