Current Affairs January 12, 2018

Current-Affairs-January-12-2018

Current Affairs January 12, 2018 को सभी अखबारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और बिजनेस स्टैंडर्ड का अध्ययन कर तैयार किया गया है। यह जानकारी पाठक को UPSC, SSC, Banking, Railway और अन्य सभी प्रतियोगिता परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होगी।

1. इंदु मल्होत्रा की कॉलेजियम पद्धति द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश रुप में नियुक्ति

11 जनवरी 2018 को वरिष्ठ वकील इंदू मल्होत्रा को सर्वोच्च न्यायालय के कॉलेजियम पद्धति द्वारा न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करने की सिफारिश की गई है। सर्वोच्च न्यायालय में कॉलेजियम पद्धति द्वारा नियुक्त की जाने वाली इंदु मल्होत्रा प्रथम भारतीय महिला अधिवक्ता होगी। इस नियुक्ति से पूर्व वर्ष 2007 में इंदू मल्होत्रा को वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था। इस नियुक्ति के उपरांत स्वतंत्र भारत के सर्वोच्च न्यायालय में नियुक्ति प्राप्त करने वाली इंदु मल्होत्रा सातवी महिला न्यायाधीश होगी।

वर्तमान में न्यायमूर्ति आर बनुमती सर्वोच्च न्यायालय में एकमात्र महिला न्यायाधीश हैं।

सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने वाली पहली महिला, 1989 में न्यायमूर्ति एम फतामा बीवी थी।

इंदु मल्होत्रा के अतिरिक्त, उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एम जोसेफ को भी सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करने की सिफारिश की गई है।

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग:

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (NJAC) एक प्रस्तावित निकाय हैं, जो भारत में उच्च न्यायपालिका के न्यायपालकों की नियुक्ति के लिए जिम्मेदार हैं।

यह संविधान के 99 वें संशोधन विधेयक द्वारा स्थापित किया गया था।

इस आयोग में संविधान के संशोधित प्रावधानों के अनुसार निम्नलिखित छह व्यक्ति शामिल होंगे:

1. भारत के मुख्य न्यायाधीश (अध्यक्ष)
2. सुप्रीम कोर्ट के दो अन्य वरिष्ठ न्यायाधीश
3. केन्द्रीय कानून और न्याय मंत्री
4. दो प्रतिष्ठित व्यक्ति (भारत के मुख्य न्यायाधीश, प्रधान मंत्री और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष द्वारा चयनित)
Source: The Hindu

2. वर्ष 1984 के दंगों की जांच के लिए नई एसआईटी का गठन

सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1984 में सिख विरोधी दंगों के सिलसिले में 186 मामलों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है. इस जांच दल की अध्यक्षता पूर्व हाई कोर्ट के न्यायाधीश ढिंगरा की अध्यक्षता मे की गई है। तीन सदस्यीय एसआईटी में 2006 के आईपीएस बैच अधिकारी अभिषेक दुलर और एक सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी राजदीप सिंह भी होंगे।

यह एसआईटी गठन 11 दिसंबर 2017 को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक समिति के न्यायाधीश के.एस. राधाकृष्णन और जेएम पांचाल द्वारा दी गई गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है।

केंद्र सरकार द्वारा गठित एसआईटी

12 फरवरी 2015 को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जस्टिस (सेवानिवृत्त) जीपी माथुर की सिफारिशों पर वर्ष 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी प्रमोद अस्थाना के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया था। जिसके अन्य सदस्य सेवानिवृत्त जिला और सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार और पूर्व दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त उपायुक्त कुमार ज्ञानेश थे।

Source: The Hindu

3. पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की “सक्षम/Saksham” योजना

सक्षम (संरक्षण क्षमता महोत्सव) पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघ की एक वार्षिक फ्लैगशिप कार्यक्रम है, जो भारत सरकार के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत राज्य सरकारों की सक्रिय भागीदारी से आयोजित किया जाता है।

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य पेट्रोलियम उत्पादों के संरक्षण और कुशल उपयोग के प्रति लोगों को संवेदनशील और पर्यावरण के लिए और अधिक अग्रणी बनाना है।

यह कार्यक्रम 16 जनवरी 2018 को नई दिल्ली स्थित सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में सक्षम 2018 का आयोजन किया जाएगा।

इस कार्यक्रम के तहत पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघ (PCRA) विभिन्न लोग केंद्रित गतिविधियों बायोमास पर एलपीजी / पीएनजी के लाभ के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करेगा।

इसके अतिरिक्त PCRA इंदौर, भुवनेश्वर और मुंबई में 21 जनवरी को साइकिल दिवस का आयोजन करेगा।

ऊर्जा संरक्षण पर पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की सक्षम/Saksham योजना कीमती इंधन को बचाने के लिए किए जाने वाले अंतराष्ट्रीय प्रयासों में से एक है।

Source: PIB

4. राष्ट्रीय युवा दिवस: 12 जनवरी

राष्ट्रीय युवा दिवस प्रतिवर्ष 12 जनवरी को सामाजिक सुधारक, दार्शनिक और विचारक स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन की जयंती के उपलक्ष्य पर आयोजित किया जाता है। इस वर्ष स्वामी विवेकानंद की 155 वीं जयंती है। स्वामी विवेकानंद भारतीय युवाओं के लिए प्रेरणा के महान स्रोत है।

स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को नरेन्द्रनाथ दत्ता के रूप में हुआ और 4 जुलाई 1 9 02 को उनका निधन हो गया। वह 19वीं सदी के संत रामकृष्ण परमहंस के मुख्य शिष्य थे। वह भारत के सबसे प्रमुख व्यक्तित्व में से एक थे जिन्होंने “पश्चिमी” देशों को भारतीय वेदांत और योग के दर्शन पेश किए।

वह सबसे महान आध्यात्मिक नेताओं में से एक है, जिन्हें 19वीं शताब्दी के अंत में हिंदू धर्म को प्रमुख विश्व धर्म की सूची में स्थान दिलाने के लिए इंटरफेथ जागरूकता बढ़ाने के लिए श्रेय दिया जाता है। उन्हें हिंदू धर्म के पुनरुत्थान में प्रमुख बल भी माना जाता है, जिसने औपनिवेशिक भारत में राष्ट्रवाद की अवधारणा में योगदान दिया।

Source: Financial Express