राष्ट्रीय साइबर समन्वय केंद्र

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने राष्ट्रीय साइबर समन्वय केंद्र के प्रथम चरण का शुभारंभ किया। यह राष्ट्रीय साइबर समन्वय केंद्र, साइबर सुरक्षा खतरों का पता लगाने के लिए देश के वेब ट्रैफिक को स्कैन करने का कार्य करेगा।

महत्वपूर्ण तथ्य

राष्ट्रीय साइबर समन्वय केंद्र एक बहु-हितधारक साइबर सुरक्षा और भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी-इन) द्वारा कार्यान्वित ई-सर्विलांस एजेंसी है, जो केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करेगी।
यह समन्वय केंद्र सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 की धारा 69 बी के प्रावधानों और अधिसूचित नियमों द्वारा अपनी शक्तियां प्राप्त करती है।
यह साइबर सुरक्षा के लिए भारत की प्रथम सुरक्षा इकाई है, जो सरकारी और निजी सेवा प्रदाताओं के सभी संचार पर निगरानी रखेगी। जो वास्तविक समय के साइबर खतरा का पता लगाने और समय पर कार्रवाई के लिए विभिन्न संगठनों के साथ-साथ इंटरनेट सेवा प्रदाताओं (आईएसपी) को सतर्क करने के लिए इंटरनेट ट्रैफ़िक और संचार मेटाडाटा को देश में आने के लिए स्कैन करना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.