नारी शक्ति पुरस्कार

8 मार्च 2017 को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति भवन में नारी शक्ति पुरस्कार 2016 से विजेताओं को सम्मानित किया.

नारी शक्ति पुरस्कार के महत्वपूर्ण तथ्य:

वर्ष 1999 में केंद्र सरकार ने नारी शक्ति पुरस्कार की स्थापना की।

केंद्र सरकार ने भारत में महिला सशक्तिकरण के लिए महिलाओं और संस्थानों द्वारा किए गए सेवा कार्य को मान्यता प्रदान करने हेतु नारी शक्ति पुरस्कार की स्थापना की।

यह पुरस्कार महिलाओं और संस्थाओं द्वारा महिलाओं, विशेष रूप से कमजोर और हाशिए पर आधारित महिलाओं के लिए विशिष्ट सेवाएं प्रदान करने के प्रयासों को पहचानते हैं।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, राष्ट्रीय स्तर के नारी शक्ति पुरस्कार के लिए संगठनों और संस्थानों का चयन करता है।

नारी शक्ति पुरस्कार के तहत एक लाख रुपए का नगद पुरस्कार और व्यक्ति और संस्थान को प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है।

नारी शक्ति पुरस्कार पात्रता:

नारी शक्ति पुरस्कार के लिए सभी भारतीय संस्थान संगठन और नागरिक पात्र है।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय प्रतिवर्ष सभी राज्य सरकारों, संघ शासित क्षेत्रों, केंद्रीय मंत्रालयों, गैर सरकारी संगठनों, निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और विश्वविद्यालयों से नामांकन आमंत्रित करता है।

कुछ आसाधारण मामलों में चयन समिति औचित्य के साथ किसी भी व्यक्ति या संस्थान को इस पुरस्कार के लिए पात्र मान सकती है।

1 thought on “नारी शक्ति पुरस्कार”

Leave a Comment

Your email address will not be published.