भारत क्यूआर कोड: डिजिटल भुगतान तकनीक

23 जनवरी 2017 को केंद्र सरकार ने कार्ड स्वाइप मशीन के बिना डिजिटल भुगतान को ओर अधिक आसान और प्रभावी बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया। केंद्र सरकार ने “भारत क्यूआर कोड” नामक एक नई त्वरित प्रक्रिया (मूल्यांकन) कोड सेवा का शुभारंभ किया. भारत क्यूआर कोड अपनी तरह का दुनिया का पहला इंटर प्रचलित भुगतान स्वीकृति सेवा है। इंटर प्रचलित भुगतान स्वीकृति सेवा से तात्पर्य एक ऐसी डिजिटल सेवा, जिसमें अलग-अलग सेवा प्रदाता अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे। इस केंद्रीय परियोजना का मुख्य उद्देश्य देश में डिजिटल भुगतान को अधिक प्रभावी बनाना है।

भारत क्यूआर कोड

भारत क्यूआर कोड, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) से निर्देश के तहत भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई), वीसा, मास्टरकार्ड और अमेरिकन एक्सप्रेस द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है।

भारत क्यूआर कोड मास्टर कार्ड / वीजा / रुपे प्लेटफार्मों के लिए एक समन्वय इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

भारत क्यूआर कोड आधार सक्षम भुगतान और एकीकृत भुगतान इंटरफेस जैसी सुविधाएं भी प्रदान करता है।

भारत क्यूआर कोड ग्राहक को बिना कार्ड स्वाइप मशीन के खुदरा विक्रेता की आईडी या नंबर पर डिजिटल भुगतान की सेवा प्रदान करता है।

वर्तमान समय में व्यापारी को अलग-अलग सेवाओं के तहत अलग-अलग क्यूआर कोड प्रदर्शित करने होते हैं, किंतु भारत क्यूआर कोड के माध्यम से व्यापारी अलग-अलग सेवाओं के लिए एक ही क्यू आर कोड प्रदर्शित कर सकता है। उदाहरण के तौर पर व्यापारी को अलग-अलग मोबाइल एप्लीकेशन के अनुसार अलग अलग क्यूआर कोड प्रदर्शित करने होते थे, किंतु भारत क्यूआर कोड के माध्यम से व्यापारिक एक ही क्यूआर कोड का उपयोग कर अलग-अलग मोबाइल एप्लीकेशन से अपना डिजिटल भुगतान आसानी से प्राप्त कर सकेगा।

क्यूआर कोड:

क्यूआर कोड (त्वरित प्रतिक्रिया कोड) एक दो आयामी (मैट्रिक्स) मशीन पठनीय कोड है। यह काले और सफेद वर्ग से बना कोड है।

क्यूआर कोड ईमेल, वेबसाइट और फोन नंबर इत्यादि सामग्री के भंडारण के लिए उपयोग किया जाता है। इस कोड को एक स्मार्टफोन के कैमरे से पढ़ा जा सकता है।

क्यूआर कोड 7089 अंको को स्टोर करने में सक्षम है, जबकी पारंपरिक कोड अधिकतम 20 अंको को स्टोर कर सकता हैं।

Leave a Comment

Your e-mail address will not be published.