बेट द्वारका दर्शन सर्किट: हृदय योजना

शहरी विकास मंत्रालय ने विरासत शहर विकास और संवर्धन योजना (हृदय) के तहत गुजरात में 6 किमी लंबी बेट द्वारका दर्शन सर्किट के विकास को मंजूरी दे दी। इस संबंध में निर्णय शहरी विकास सचिव की अध्यक्षता में हृदय राष्ट्रीय अधिकार प्राप्त समिति की बैठक में लिया गया।

इस योजना के तहत प्रसिद्ध द्वारिकाधीश हवेली और हनुमान दांडी (केवल हनुमान आवास मंदिर) गुजरात के द्वारका जिले को जोड़ा जाएगा।

इस योजना का लागत मूल्य 16.27 करोड़ों रुपए है।

इस योजना के तहत दो प्रमुख जल निकायों शंकुधर झील और रणछोड़ तालाब का पुनरुद्धार भी किया जाएगा।

ह्रदय योजना के महत्वपूर्ण तथ्य:

हृदय योजना जनवरी 2015 में देश के प्रमुख विरासत शहरों के समग्र विकास पर ध्यान देने के लिए प्रारंभ की गई थी।

हृदय योजना का मुख्य उद्देश्य देशभर के विरासत शहरों को पुनर्जीवित कर उन्हें संरक्षण प्रदान करना है, साथ ही यह योजना संबंधित शहरों को पर्यटन के अनुसार सुरक्षित वातावरण प्रदान करते हुए उनके अद्वितीय चरित्र को प्रतिबिंबित करने का एक प्रयास है।

हृदय योजना के तहत संबंधित राज्य सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित विरासत स्थलों को शहरी बुनियादी ढांचे के पुनरुद्धार कार्यक्रम में शामिल कर उन्हें विकसित किया जाएगा।

इस योजना के तहत प्रस्तावित क्षेत्र में जलापूर्ति, स्वच्छता, जल निकासी, अपशिष्ट प्रबंधन, बिजली के तार, स्ट्रीट लाइट, बागवानी और नागरिक सेवा सुधार व्यवस्थाओं को सुचारु और प्रभावी बनाया जाएगा।

वर्तमान समय में इस योजना के तहत 12 प्रमुख विरासत शहर अजमेर, अमरावती, अमृतसर, द्वारका, बादामी, गया, मथुरा, पुरी, कांचीपुरम, वाराणसी, वेलनकन्नी और वारंगल को शामिल किया गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.