प्रवासी कौशल विकास योजना: महत्वपूर्ण तथ्य

[the_ad id=”2408″]

7 जनवरी 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेंगलुरु, कर्नाटक में 14 वें प्रवासी भारतीय दिवस का शुभारंभ किया। पुर्तगाली प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। हमें ध्यान देना चाहिए कि प्रतिवर्ष भारत में 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस आयोजित किया जाता है, जिसका प्रमुख उद्देश्य भारत के विकास हेतु प्रवासी भारतीय समुदाय के योगदान को चिन्हित करना है।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी कौशल विकास योजना का शुभारंभ किया।

महत्वपूर्ण तथ्य

इस योजना का प्रमुख उद्देश्य भारतीय नागरिकों को विदेशों में रोजगार की मांग की आपूर्ति के तहत कुशल बनाना है।

यह योजना भारतीय युवाओं में आत्मविश्वास को बढ़ावा देने और व्यवसाय के प्रति उनके नजरिए को बदलते हुए उन्हें कुशल कारीगर बनाना है।

प्रवासी कौशल विकास योजना के तहत चुनिंदा क्षेत्रों में विदेशों में रोजगार के लिए उत्सुक भारतीय नागरिकों को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रशिक्षित कर उन्हें प्रमाण पत्र जारी किए जाएंगे।

प्रवासी कौशल विकास योजना का कार्यान्वयन विदेश मंत्रालय एवं कौशल विकास मंत्रालय के परामर्श से राष्ट्रीय कौशल विकास निगम द्वारा किया जाएगा।

3 thoughts on “प्रवासी कौशल विकास योजना: महत्वपूर्ण तथ्य”

Leave a Comment

Your email address will not be published.