Current Affairs August 30, 2018

Current-Affairs-August-30-2018

Current Affairs August 30, 2018 को सभी अखबारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और बिजनेस स्टैंडर्ड का अध्ययन कर तैयार किया गया है। यह जानकारी पाठक को UPSC, SSC, Banking, Railway और अन्य सभी प्रतियोगिता परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होगी।

गगनयान मिशन: इसरो का प्रथम मानव अंतरिक्ष मिशन

इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन ने अपने प्रथम स्वदेशी मानव अंतरिक्ष मिशन का अनावरण किया, जिसे वर्ष 2022 में प्रक्षेपित किया जाना प्रस्तावित है। इस मिशन के तहत तीन भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को वर्ष 2022 में गगनयान अंतरिक्ष मिशन पर भेजा जाएगा। यह इसरो द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित होने वाला प्रथम मानव अंतरिक्ष मिशन होगा. इसकी सफलता के उपरांत भारत अमेरिका रूस और चीन के बाद अंतरिक्ष में यात्रियों को भेजने वाला विश्व का चौथा राष्ट्र बन जाएगा। पूर्व भारतीय वायु सेना अधिकारी राकेश शर्मा अंतरिक्ष में यात्रा करने वाले प्रथम भारतीय थे, उन्हें इंटरकॉसमॉस कार्यक्रम के तहत 2 अप्रैल 1984 को सोवियत संघ द्वारा अंतरिक्ष में भेजा गया था।

गगन यान मिशन के उद्देश्य:

यह मिशन देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के स्तर में वृद्धि करने और अकादमिक और उद्योग जगत के साथ युवाओं को प्रेरित करने के लिए एक राष्ट्रीय परियोजना के रूप में संचालित किया जा रहा है। मिशन तीन सदस्यीय दल को पांच से सात दिनों की अवधि के लिए अंतरिक्ष में भेजेगा। लॉन्च वाहन श्रीहरिकोटा, आंध्र प्रदेश के स्पेसपोर्ट से प्रक्षेपित होगा और यह 16 मिनट में वांछित कक्षा तक पहुंच जाएगा। चालक दल का चयन भारतीय वायुसेना (आईएएफ) और इसरो संयुक्त रूप से किया जाएगा जिसके बाद वे दो-तीन वर्षों तक प्रशिक्षण ले लेंगे। यह मिशन के दौरान माइक्रोग्राइटी प्रयोग करेगा।

मिशन के संबंध में महत्वपूर्ण तथ्य:

अपेक्षित प्रक्षेपण: वर्ष 2022
लागत: 10,000 करोड रुपए
अंतरिक्ष यात्रियों की संख्या: 3
वाहक: जीएसएलवी एमके 3 लॉन्चिंग वाहन
मॉड्यूल: क्रू मॉड्यूल (3.7 मीटर) और सेवा मॉड्यूल (7 मीटर)
वजन: 7 टन

गगनयान मिशन के लिए इसरो द्वारा विकसित समर्थन प्रौद्योगिकी:

वर्तमान समय में, इसरो ने कुछ महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों को विकसित किया है, जिनके लिए मानव-अंतरिक्ष मिशन मिशन, पुन: प्रवेश मिशन क्षमता, चालक दल से बचने की प्रणाली, चालक दल मॉड्यूल कॉन्फ़िगरेशन, थर्मल संरक्षण प्रणाली, मंदी और फ्लोटेशन सिस्टम और जीवन समर्थन प्रणाली के उप-प्रणालियों की आवश्यकता होती है। इन तकनीकों में से कुछ को स्पेस कैप्सूल रिकवरी एक्सपेरिमेंट (एसआरई -2007), क्रू मॉड्यूल वायुमंडलीय पुनर्मिलन प्रयोग (केयर -2014) और पैड एबॉर्ट टेस्ट (2018) के माध्यम से सफलतापूर्वक प्रदर्शित किया गया है। ये प्रौद्योगिकियां इसरो को 4 वर्षों की छोटी अवधि में कार्यक्रम उद्देश्यों को पूरा करने में सक्षम बनाती हैं।


प्रधानमंत्री विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवीनता सलाहकार परिषद

केंद्र सरकार द्वारा विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार पर प्रधानमंत्री विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवीनता सलाहकार परिषद नामक नए 21 सदस्य सलाहकार पैनल का गठन किया गया है। इस सलाहकार समिति का नेतृत्व प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार विजय राघवन करेंगे। परिषद विज्ञान, प्रौद्योगिकी, साथ ही नवाचार पर प्रधानमंत्री को सलाह देगी। यह पीएम वैज्ञानिक दृष्टि के कार्यान्वयन को भी समन्वयित करेगा। यह सक्रिय रूप से प्रमुख विज्ञान और प्रौद्योगिकी मिशन के निर्माण और समय पर कार्यान्वयन में सहायता करेगा और अंतःविषय प्रौद्योगिकी विकास कार्यक्रम विकसित करेगा। यह शहर में अनुसंधान एवं विकास समूहों सहित विज्ञान में ‘उत्कृष्टता के क्लस्टर’ विकसित करने की भी सरकार को सलाह देगा।


ई-सिगरेट और अन्य इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलिवरी सिस्टम पर प्रतिबंध

29 अगस्त 2018 को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ई-सिगरेट और अन्य इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलिवरी सिस्टम पर प्रतिबंध लगाने संबंधी आदेश दिए। यह आदेश ई-सिगरेट और अन्य इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम के बढ़ते स्वास्थ्य खतरों को ध्यान में रखकर जारी किया गया है।

ई-सिगरेट:

एक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, ई सिगरेट या वाष्पीकृत सिगरेट एक बैटरी चालित उपकरण है जो निकोटीन या गैर-निकोटीन के वाष्पीकृत होने वाले घोल की सांस के साथ सेवन की जाने वाली खुराक प्रदान करता है। यह सिगरेट, सिगार या पाइप जैसे धुम्रपान वाले तम्बाकू उत्पादों का एक विकल्प है। तथाकथित निकोटीन वितरण के अलावा यह वाष्प पिये जाने वाले तम्बाकू के धुंएं के समान स्वाद और शारीरिक संवेदन भी प्रदान करती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय सलाहकार:

ग्लोबल तंबाकू महामारी 2017 पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार, मॉरीशस, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, श्रीलंका, थाईलैंड, ब्राजील, मेक्सिको, उरुग्वे, बहरीन, ईरान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात जैसे 30 देशों ने पहले ही ENDS पर प्रतिबंध लगा दिया है।

ENDS का उपयोग गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के विकास को प्रभावित कर सकते हैं। यह उन लोगों को कार्डियोवैस्कुलर बीमारी में योगदान दे सकता है। इसके अलावा, निकोटिन ‘ट्यूमर प्रमोटर’ के रूप में कार्य कर सकता है और ऐसा लगता है कि घातक बीमारियों की जीवविज्ञान में शामिल है।


क्षितिज 2020: भारत, ईयू का अगली पीढ़ी का इन्फ्लूएंजा टीका विकसित करने का शोध कार्यक्रम

केंद्र सरकार और यूरोपीय संघ द्वारा दुनियाभर के नागरिकों की स्वास्थ्य सुरक्षा हेतु अगली पीढ़ी के इन्फ्लूएंजा टीका विकसित करने हेतु “होरिजन 2020” नामक शोध कार्यक्रम के लिए सहयोग किया गया। इस शोध कार्यक्रम के लिए इस परियोजना के तहत लागत प्रभावी और किफायती इन्फ्लूएंजा टीका को विकसित किया जाएगा, जिसका उद्देश्य प्रभावशीलता, सुरक्षा प्रतिरक्षा की अवधि को आगे बढ़ाने का लक्ष्य है। इनफ्लुएंजा (श्लैष्मिक ज्वर) एक विशेष समूह के वायरस के कारण मानव समुदाय में होने वाला एक संक्रामक रोग है। इसमें ज्वर और अति दुर्बलता विशेष लक्षण हैं। यह भारत के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन को भी बढ़ावा देगा। परियोजना के संबंध में महत्वपूर्ण तथ्य:

भारतीय विभाग: जैव प्रौद्योगिकी विभाग (ईयू-इंडिया कंसोर्टिया)
अनुमानित बजट: 240 करोड रुपए


संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम का नया सहायक महासचिव

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जाने-माने भारतीय विकास अर्थशास्त्री और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी सत्य एस त्रिपाठी को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) के न्यूयॉर्क कार्यालय का प्रमुख और एजेंसी का सहायक महासचिव नियुक्त किया है। श्री त्रिपाठी वर्तमान सहायक महासचिव इलियट हैरिस का स्थान लेंगे, जो वर्ष 2017 से संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के विशिष्ट सलाहकार के रूप में सेवारत रहे।

सत्य एस त्रिपाठी:

त्रिपाठी ओडिशा के बेरहामपुर विश्वविद्यालय से वाणिज्य और कानून स्नातक डिग्री और कानून में स्वामी हैं। उनके पास संयुक्त राष्ट्र के साथ 35 से अधिक वर्षों का समृद्ध अनुभव है और 1998 से यूरोप, एशिया और अफ्रीका में सतत विकास, मानवाधिकार, लोकतांत्रिक शासन और कानूनी मामलों में सामरिक कार्य पर संयुक्त राष्ट्र में काम किया है। 2017 के बाद से, वह सतत विकास के लिए 2030 एजेंडा पर UNEP के वरिष्ठ सलाहकार रहे हैं। उन्होंने इंडोनेशिया में सुनामी प्रयासों के लिए संयुक्त राष्ट्र रिकवरी समन्वयक के रूप में कार्य किया था। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के निदेशक और कार्यकारी प्रमुख के रूप में भी विकासशील देशों में वनों की कटाई और वन गिरावट से उत्सर्जन को कम करने के लिए काम किया है।

नोट: वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र नौकरशाही में सत्य त्रिपाठी, अटल खारे और निखिल सेठ के बाद तीसरे सबसे ज्यादा रैंकिंग वाले भारतीय हैं।

अतुल खरे, एक महासचिव जनरल जो संचालन विभाग के प्रमुख हैं और निखिल सेठ सहायक सचिव जनरल (वर्ष 2015 से) जेनेवा स्थित संयुक्त राष्ट्र प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान के अध्यक्ष है।


नवलख: Google ने इंडिक भाषा प्रकाशकों के लिए नया मंच तैयार किया

सर्च इंजन विशाल Google ने अधिकतर भारतीय उपयोगकर्ताओं के लिए विशेष रूप से स्थानीय भाषाओं में प्रासंगिक ऑनलाइन सामग्री बनाने के लिए प्रोजेक्ट नेवलेखा का अनावरण किया है। नई दिल्ली में आयोजित चौथे ‘Google फॉर इंडिया’ समारोह में Google के अन्य उत्पादों के उन्नयन के साथ इसे अनावरण किया गया था। भारत Google के लिए महत्वपूर्ण बाजार है क्योंकि यह दुनिया में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की दूसरी सबसे बड़ी आबादी है। वर्तमान में, भारतीय भाषाओं में ऑनलाइन सामग्री की मात्रा अंग्रेजी में उपलब्ध होने का केवल 1% है।

नवलेख/Novlekha:

नवलेख शब्द संस्कृत से लिया गया है जिसका अर्थ है “लिखने का एक नया तरीका।” इस परियोजना का उद्देश्य वेब होस्टिंग को आसान और सरल बनाकर 135,000 स्थानीय भाषा प्रकाशकों को ऑनलाइन लाने का लक्ष्य है। इसमें टूल भी शामिल है जो प्रकाशकों को दस्तावेजों या PDF को स्कैन करने और मंच पर तत्काल वेब पेज बनाने की अनुमति देने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का उपयोग करता है। प्रक्रिया में कोई विशेषज्ञ डिजिटल ज्ञान की आवश्यकता नहीं है। नवलेख परियोजना के तहत, Google इन प्रकाशकों को प्रशिक्षण और समर्थन और पहले तीन वर्षों के लिए ब्रांडेड पेज डोमेन प्राप्त करने में सहायता करेगा।

Related Post

Seema Charan

I am a House wife & I love to post Current Affairs Article & Objective Question Answers of GK in Hindi for Students. Hope You Like it. Don't Forget to Share Them.