Current Affairs April 21, 2018

Current-Affairs-April-21-2018

Current Affairs April 21, 2018 को सभी अखबारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और बिजनेस स्टैंडर्ड का अध्ययन कर तैयार किया गया है। यह जानकारी पाठक को UPSC, SSC, Banking, Railway और अन्य सभी प्रतियोगिता परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होगी।

“आर्काइव्ज रीड्स” पुस्तक पाठन श्रंखला

भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार ने पुस्तक पाठन संखला के द्वितीय सत्र “आर्काइव्ज रीड्स” का शुभारंभ किया। इस पुस्तक पाठन श्रृंखला से लोगों में अभिलेखीय जागरूकता पैदा करने में मदद मिलेगी और प्रसिद्ध इतिहासकार तथा युवा पाठकों के बीच नजदीकी बढ़ेगी।
आर्काइव्ज रीड्सपुस्तक पाठन श्रृंखला की शुरूआत 23 फरवरी, 2018 को की गई थी।

भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार में भारत सरकार के अप्रचलित अभिलेखों का भंडारण किया जाता है। इसका प्रयोग अधिकतर प्रशासकों और शोधार्थियों के द्वारा किया जाता है। यह भारत सरकार के पर्यटन और संस्कृति मंत्रालय से संबद्ध एक कार्यालय है। इसकी शुरुआत कलकत्ता (अब कोलकाता) में मार्च 1891 में इंपीरियल रिकॉर्ड डिपार्टमेंट की स्थापना के साथ हुई थी। 1911 में जब राष्ट्रीय राजधानी को कलकत्ता से बदलकर नई दिल्ली किया गया, उस समय इस अभिलेखागार को भी नई दिल्ली स्थानानांतरित कर दिया गया।

Source: PIB 


संसद में ई-विधान परियोजना के लिए केंद्रीय परियोजना निगरानी इकाई का गठन

केंद्रीय संसदीय मामलों के मंत्रालय ने संसद भवन अनुबंध में सरकार की ई-विधान परियोजना के लिए केंद्रीय परियोजना निगरानी इकाई के नए कार्यालय का उद्घाटन किया।

ई-विधान भारत में राज्य विधानसभाओं के कामकाज को डिजिटाइज करने और बनाने के लिए एक मिशन मोड प्रोजेक्ट है। यह सरकार के व्यापक डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का हिस्सा है और कागजात के उपयोग को काफी हद तक कम करके स्वच्छता और पर्यावरण में योगदान देने की संभावना है।

संसदीय मामलों के मंत्रालय परियोजना के लिए नोडल मंत्रालय है। यह सभी राज्यों में प्रारंभिक तारीख में परियोजना को शुरू करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रहा है। परियोजना के कार्यान्वयन के लिए तैयार की गई रणनीति के प्रमुख घटकों में से एक केंद्रीय और साथ ही राज्य स्तर पर परियोजना निगरानी इकाइयों को बनाना है।

Source: PIB 


ट्रांसपोर्टिंग एक्सपेलनेट सर्वेक्षण सैटेलाइट

ट्रांसिटिंग एक्सपेलनेट सर्वे सैटेलाइट नासा के एक्सप्लोरर्स प्रोग्राम के लिए एक योजनाबद्ध अंतरिक्ष दूरबीन है, जो पारगमन पद्धति का उपयोग कर एक्सप्लानेट्स की खोज करेगी। इस परियोजना के तहत 2 साल की अवधि के लिए पृथ्वी के सबसे निकट प्रभावशाली सितारों का पारगमन पद्धति द्वारा सर्वेक्षण किया जाएगा। यह सर्वेक्षण करने के लिए व्यापक फील्ड कैमरा की एक सारणी का उपयोग करेगा। इसे अप्रैल 2018 में लॉन्च करने की योजना है।

इस परियोजना के तहत छोटे ग्रहों के बड़े समूह के द्रव्यमान, आकार, घनत्व, कक्षा का अध्ययन किया जाना संभव होगा। यह अपने परीक्षणों में संबंधित ग्रह की गैस या चट्टानों के साथ-साथ असामान्य परिस्थितियों का भी अध्ययन करने में सक्षम होगा। इस पूरी परियोजना के लिए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने निजी अंतरिक्ष कंपनी स्पेस एक्स के साथ पारगमन पद्धति उपयोग हेतु समझौता हस्ताक्षर किया।

Source: Wikipedia

Seema Charan

I am a House wife & I love to post Current Affairs Article & Objective Question Answers of GK in Hindi for Students. Hope You Like it. Don't Forget to Share Them.