Current Affairs April 11, 2018

Current-Affairs-April-11-2018

Current Affairs April 11, 2018 को सभी अखबारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और बिजनेस स्टैंडर्ड का अध्ययन कर तैयार किया गया है। यह जानकारी पाठक को UPSC, SSC, Banking, Railway और अन्य सभी प्रतियोगिता परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होगी।

प्रोजेक्ट धूप: युवाओं में विटामिन डी की आपूर्ति हेतु

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण में विशेष रूप से युवा लोगों के बीच विटामिन डी की कमी की बढ़ती घटनाओं को ध्यान में रखते हुए “प्रोजेक्ट धूप” का शुभारंभ किया इस परियोजना का उद्देश्य स्कूली शिक्षा के दौरान सुबह 11:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक प्राकृतिक सूर्य के प्रकाश के माध्यम से छात्रों में विटामिन डी की अधिकतम अवशोषण को सुनिश्चित करवाना है।

यह परियोजना भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद नई दिल्ली द्वारा प्रारंभ की गई है। इस परियोजना के माध्यम से संबंधित प्राधिकरण स्कूली छात्रों में विटामिन D को सूर्य के प्रकाश और दूध और खाद्य तेलों के माध्यम से विटामिन ए की आपूर्ति को सुनिश्चित करना चाहते हैं।

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI)

FSSAI एक नोडल वैधानिक एजेंसी है, जो खाद्य सुरक्षा के विनियमन और पर्यवेक्षण के जरिए भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा और बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार है। यह खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम, 2006 के तहत स्थापित किया गया था और केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तत्वावधान में काम करता है।

Source: DowntoEarth 


बान की-मून: ब्यू फोरम के अध्यक्ष

पूर्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून को जापान के यासूओ फुकुडा की जगह एशिया के लिए ब्यू फोर फोरम के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। पीपल्स बैंक ऑफ चाइना के पूर्व गवर्नर झोउ जियाओचुआन को उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया था। दोनों नियुक्तियां वार्षिक ब्यूओ फोरम के दूसरे सत्र के दौरान हुईं, जिसे चीन के हैनान प्रांत में “एशियन डेवोस” के रूप में जाना जाता है। बान की मून दक्षिण कोरिया के राजनयिक हैं और जनवरी 2007 से दिसंबर 2016 तक संयुक्त राष्ट्र के आठवें महासचिव थे।

एशिया बू फूम (BFA)

BFA गैर-लाभकारी संगठन है जो एशिया, एशिया और अन्य महाद्वीपों में सरकार, व्यवसाय और शिक्षा के नेताओं के लिए उच्च स्तर के मंचों को इस गतिशील क्षेत्र और दुनिया में सबसे अधिक प्रभावी मुद्दों पर अपने विचार साझा करने के लिए मेजबानी करता है। यह डेविस, स्विट्जरलैंड में प्रतिवर्ष वार्षिक विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) पर आधारित है।

फोरम क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण को बढ़ावा देने और एशियाई देशों को अपने विकास लक्ष्यों के करीब लाने के लिए प्रतिबद्ध है। यह 2001 में स्थापित किया गया था। इसकी पहली बैठक अप्रैल 2002 में आयोजित की गई थी और उसके बाद से यह सालाना आयोजित किया जाता है। इसका सचिवालय बीजिंग में आधारित है। यह मंच “एशियाई दावोस” के रूप में जाना जाता है इसका नाम चीन के दक्षिणी हैनान प्रांत में बूआ के शहर से लिया गया है, जो 2002 से इसके वार्षिक सम्मेलन का स्थायी स्थल रहा है।

Source: Business Standard 


ई-आधार पर फोटो के साथ डिजिटली हस्ताक्षरित QR कोड

10 अप्रैल 2018 को भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने ई-आधार पर सुरक्षित डिजिटल हस्तांतरित क्यूआर कोड सेवा का शुभारंभ किया। इसमें सांख्यिकी विवरण के अलावा आधार धारक की तस्वीर भी शामिल होगी। इस जानकारी को और अधिक सुरक्षित बनाने के लिए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने डिजिटल हस्ताक्षर भी किए।

मुख्य तथ्य:

QR कोड, बारकोड लेबल का एक रूप है जिसमें मशीन पढ़ने योग्य जानकारी होती है जबकि ई-आधार आधार का इलेक्ट्रॉनिक संस्करण है जिसे आधिकारिक यूआईडीएआई वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है। डिजिटली रूप से हस्ताक्षरित क्यूआर कोड में आधार धारक की तस्वीर शामिल होगी जो कि जनसांख्यिकीय विवरणों की मौजूदा सुविधा के अतिरिक्त है। यह विभिन्न उपयोगकर्ता एजेंसियां ​​जैसे बैंकों को आधार कार्ड ऑफ़लाइन की प्रामाणिकता की पुष्टि करने की अनुमति देगा। आधार कार्ड की असलियत को शीघ्रता से सत्यापित करने के लिए यह एक सरल ऑफ़लाइन तंत्र है।

Source: The Hindu 


बिहार में भारत के सबसे शक्तिशाली इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव

10 अप्रैल, 2018 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के मधेपुरा लोकोमोटिव फैक्टरी से भारत के पहले 12,000 अश्वशक्ति इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव का अनावरण किया। जिसका निर्माण फ्रांस के अल्स्टॉम द्वारा पूरा किया गया है।

यह लोकोमोटिव इंजन भारत के सबसे शक्तिशाली लोकोमोटिव है।

इसमें 6000 टन की ढुलाई क्षमता है और अधिकतम गति 120 किमी/घंटा हो सकती है। जिसका उपयोग मुख्यत कोयला और लौह अयस्क के परिवहन के लिए किया जाएगा।

यह लोकोमोटिव इंजन सौ प्रतिशत इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव होने के कारण ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में भी कटौती करेगा।

इस उपलब्धता के कारण भारत, रूस, चीन, जर्मनी और स्वीडन के देशों में शामिल हो गया है – जो कि 12000 अश्वशक्ति और क्षमता वाले विद्युत इंजनों को सफलतापूर्वक पार कर चुके हैं।

Source: Business Standard 

Related Post

Seema Charan

I am a House wife & I love to post Current Affairs Article & Objective Question Answers of GK in Hindi for Students. Hope You Like it. Don't Forget to Share Them.