भारतीय अंटार्कटिक अनुसंधान केंद्र

भारत अग्रिम 4 वर्षों में अंटार्कटिका पर अपने नए मैत्री अनुसंधान केंद्र को स्थापित करेगा. इस क्रम में 9 मई 2017 को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव माधवन नायर ने जानकारी प्रदान की. यह जानकारी कोलकाता स्थित टिटगढ़ वैगंस लिमिटेड द्वारा औपचारिक रूप से अंटार्कटिका पर शिप बिल्डिंग कार्यक्रम के दौरान की गई.

हमें ध्यान देना चाहिए कि भारत सबसे ठंडे महाद्वीप पर अपनी शोध गतिविधियों का विस्तार करने के लिए पूर्णतया एक नए जहाज, विशेष तौर पर बर्फ काटने में सक्षम की खरीद संबंधी कार्यवाही भी कर रहा है. इसके अतिरिक्त भारत अंटार्कटिका पर अपने हितों की रक्षा के लिए स्वयं के कानून का प्रारूप भी तैयार कर रहा है क्योंकि वर्तमान समय में अंटार्कटिका अंतरराष्ट्रीय कानूनों द्वारा नियंत्रित है.

पृष्ठभूमि:

अंटार्कटिका और महासागर अनुसंधान केंद्र पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत एक बहु-अनुशासनिक, बहु-संस्थागत इकाई है.
भारत ने वर्ष 1981 में अंटार्कटिका के लिए अपने प्रथम भारतीय अनुसंधान कार्यक्रम का शुभारंभ किया था.
भारत ने अंटार्कटिका संधि पर हस्ताक्षर करके वर्ष 1983 में दक्षिण गंगोत्री आर्कटिक अनुसंधान कार्यक्रम के शिलान्यास संबंधित वैश्विक स्वीकृति प्राप्त की थी.
इसी क्रम में भारत में वर्ष 1990 में दक्षिण गंगोत्री आर्कटिक अनुसंधान कार्यक्रम का नाम बदलकर मैत्री अनुसंधान केंद्र किया था.
वर्ष 2015 में अंटार्कटिका पर भारत ने अपने नवीनतम अनुसंधान केंद्र भारती का शिलान्यास किया, जिसे 134 शिपिंग कंटेनरों द्वारा निर्मित किया गया.

Like this Article? Subscribe to Our Free GK Questions.

Seema Charan
I am a House wife & I love to post Current Affairs Article & Objective Question Answers of GK in Hindi for Students. Hope You Like it. Don't Forget to Share Them.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *